घर-घर जाकर न्यूज पेपर बेचा करते थे वॉरेन बफेट, दिन-रात मेहनत कर बने निवेश की दुनिया के बादशाह

New Delhi: Warren Buffett Success Story:  घर-घर जाकर न्यूज पेपर बेचने वाला, च्यूंगम और कोका कोला बेचने वाला लकड़का आज निवेश की दुनिया का बादशाह है. कहते हैं ना कि सफलता आसानी से नहीं मिलती है. एक सफल व्यक्ति कई संघर्षों के बाद, मेहनत और अपने हौसले के दम पर मुकाम हासिल करता है. 

निवेश की दुनिया के बादशाह वॉरेन बफेट की कहानी भी कुछ ऐसी ही है. वॉरेन 1930 में  US ओमाहा में जन्में थे. उनके पिता एक स्टॉक ब्रोकिंग में सेल्समैन के रूप में काम करते थे. लेकिन डिप्रेशन की वजह से उनकी नौकरी चली गई थी. बाद में उन्होंने अपने पैसों से स्टॉक ब्रोकिंग फॉर्म शुरू किया.

जब बाकी बच्चे खेल-कूद का आनंद ले रहे थे, वहीं वॉरेन को बचपन से ही नंबर्स के साथ खेलना, बुक पढ़ना और छोटे-मोटे बिजनेस करना पसंद था, उसमें ही उन्हें आनंद मिलता था. मानों जैसे वह उन्हीं चीजों के लिए बने थे. जब वॉरेन सिर्फ 7-8 साल के थे, तब उन्होंने एक बुक पढ़ी थी जिसका नाम था- वन थाउजेंड मेक्स टू मेक थाउजेंड डॉलर. यानि एक हजार डॉलर कमाने के एक हजार तरीके.

इसी बुक में एक तरीका था पिन बॉल मशीन के बिजनेस का. उन्होंने देखा कि एक पिन बॉल मशीन खरीदने में कितने रूपए लगेंगे. वॉरेन को ये बिजनेस बहुत पसंद आया. उन्होंने अपने दोस्त के साथ मिलकर इस मशीन को खरीदा और एक नाई के दुकान में रख दिया. ताकि जो लोग वेटिंग में हो वो टाइम पास के लिए इससे खेल सकें.

वॉरेन का बिजनेस चल पड़ा. उन्हे जब इसमें फायदा होने लगा तो उन्होंने इसे रिइन्वेस्ट करके और मशीनें खरीदी. और उन मशीन को अलग-अलग नाई के दुकान में रख दिया. इस तरह अपने बिजनेस को अच्छे से चलाकर 1200 डॉलर में बेचकर बचपन में ही अपने बिजनेस स्किल्स का नमूना दिया. 7-8 साल के इतने छोटी सी उम्र में ही उन्होंने बिजनेस में पैर जमाना शुरू कर दिया था.

इसके बाद उन्होंने कई छोटे बिजनेस पर भी हाथ आजमाया. घर-घर जाकर अखबार बांटे, कोका कोला बेचा. च्यूंगम बेची. मैगजीन्स बेचना. वॉरेन के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक थी, लेकिन उन्हें अपना काम करना पसंद था, इसलिए वह छोटे मोटे बिजनेस पर हाथ आजमाते रहते थे.

14 साल की उम्र में ही उन्होंने 40 एकड़ जमीन खरीदी थी. और कॉलेज खत्म होते ही उनके पास 9800 डॉलर जमा हो गए थे. वॉरेन के पिता उन्हें बचपन में फायर बॉल कहते थे. क्योंकि छोटी उम्र में ही वह काम किया करते थे. वॉरेन अपनी सक्सेस का सारा क्रेडिट अपने पिता को ही देते हैं.

बफेट एक विख्यात परोपकारी भी है.. 2006 में उन्होंने अपनी संपत्ति को दान में देने की योजना घोषणा की थी, जिसके अनुसार 83% बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन (Bill & Melinda Gates Foundation) को जाना था.. 2007 में उन्हें टाइम (Time) द्वारा विश्व के 100 सबसे अधिक प्रभावशाली व्यक्तियों (100 Most Influential People) में  शामिल किया गया था.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *