ईमानदारी की मिसाल बना ये बच्चा, खुश होकर सुपरस्टार रजनीकांत ने उठाई उसकी पढ़ाई की जिम्मेदारी

New Delhi: आपने अमिताभ बच्चन (Amitabh bachchan) की फिल्म का एक डायलॉग तो सुना ही होगा, ‘न बाप बड़ा न भईया, सबसे बड़ा रुपया’…. आज के दौर में रुपए रिश्तों पर भारी पड़ रहे हैं. लोग पैसों के लिए अपनों को भी ठुकराने के लिए तैयार हैं, लेकिन आज भी कुछ ऐसे लोग हैं, जो समाज के लिए मिसाल बनकर उभर हैं.

उदाहरण के तौर पर ये सात साल का बच्चा, इस बच्चे का नाम मोहम्मद यासीन (Mohammed Yasin)  है. इस छोटे से बच्चे ने वो काम कर दिखाया, जिसे जानने के बाद साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत (Superstar Rajinikanth)  भी उनके मुरीद हो गए हैं. सुपरस्टार रजनीकांत के गोद में बैठे मोहम्मद यासिन ने ईमानदारी के मिसाल कायम की है.

जानकारी के मुताबिक, मोहम्मद यासिन जब स्कूल जा रहा था, तो उसे रास्ते में एक पर्स सड़क पर पड़ा हुआ मिला, उसने आसपास देखा लेकिन वहां कोई नहीं था.. पर्स में 50 हजार रुपए थे. अगर मोहम्मद यासिन की जगह कोई लालची व्यक्ति होता, तो वो पर्स अपने पास रख लेता, लेकिन मोहम्मद यासीन ने ऐसा कुछ नहीं किया. उसने वो पर्स स्कूल में जाकर अपने प्रिंसिपल को दे दिया और सारी कहानी बताई.

प्रिंसिपल ने पर्स को उसके मालिक तक पहुंचाने के लिए पुलिस की मदद ली और आखिरकार पर्स उसके मालिक के पास पहुंच गया. इस ईमानदारी से खुश होकर जब यासीन से पूछा गया कि उसे इनाम के तौर पर क्या चाहिए, तो उसने जवाब में रजनीकांत से मिलने की इच्छा जताई.

यासीन की ईमानदारी मीडिया में खबरों के जरिए गूंजने लगी और धीरे-धीरे कर उसकी इच्छा रजनीकांत के कानों में जा पहुंची. फिर क्या था, रजनीकांत यासीन की ईमानदारी देखकर उनके मुरीद हो गए और तुरंत यासीन को परिवार समेत आंमत्रित किया. यही नहीं, रजनीकांत ने यासीन की हायर एजुकेशन का खर्च उठाने का भी वादा किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *