IAS इनायत खान…जिन्होंने शही’दों की बेटियों को लिया था गोद, मां बनकर उठाई थी पूरी जिम्मेदारी

New Delhi: कहते हैं कि ईश्वर ने अगर हमें सक्षम बनाया है तो दूसरों की मदद करने के लिए. हमें जब भी मौका मिले, दूसरों की मदद जरूर करनी चाहिए.. बिहार की IAS अधिकारी इनायत खान का भी यही मानना है.

IAS इनायत खान महिला सशक्तिकरण की जीती जागती मिसाल है. वह ते’ज त’र्रार अधिकारी के तौर बन जाती है. ये लापरवाह अधिकारियों को फटकार लगाने के साथ कर्मठ अधिकारियों को प्रोत्साहन देना इनकी खास बात है. इनायत बेटियों को आगे बढ़ाने, उन्हें पढ़ाने का संदेश देती हैं. इतना ही नहीं इनायत की उस वक्त वाहवाही होने लगी जब उन्होंने श’हीदों की बेटियों को गोद लिया और पढ़ाई का सारा जिम्मा खुद उठाया.

बिहार के शेखपुरा की IAS इनायत ने पुलवामा में श’हीद हुए हमारे सैनिकों की बेटियों को गोद लेकर मिसाल कायम ती. इनमें CRPF रतन कुमार ठाकुर और संजय सिंहा शामिल थे, जिनके एक-एक बेटी को इनायत खान ने गोद लिया था.

यूपी के आगरा की रहने वाली इनायत खान साल 2011 में सिविल सेवा परीक्षा में 176वां स्थान हासिल किया था. जिसके बाद उन्होंने बिहार कैडर की जिम्मेदारी संभाली…इनायत खान ने सॉफ्टवेयर डेवलपमेंड कंपनी की नौकरी छोड़कर देश सेवा करने की ठानी. जिसके बाद वह IAS अफसर बनी..

इनायत खान ने श’हीद की बेटियों को गोद लेकर साबित कर दिया कि आप चाहें तो किसी की भी मदद कर सकते हैं, बशर्ते आपका इरादा नेक होना चाहिए. भगवान ने अगर हमें सक्षम बनाया है तो हमें दूसरों की मदद के लिए हर पल तैयार रहना चाहिए. इनायत खान ने बिहार में अपनी एक अलग जगह बनाई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *